वास्तु के अनुसार घर की किस दिशा में बनाएं किचन, मंदिर और गेस्ट रूम, जानिए

वास्तु के अनुसार उत्तरमुखी मकान को अच्छा माना जाता है. घर की उत्तर दिशा के वास्तु दोष मुक्त होने पर धन वैभव की वृद्धि होती है. आइए जानते हैं घर से जुड़े खास वास्तु टिप्स.

वास्तु के अनुसार दिशाएं व्यक्ति के जीवन पर प्रभाव डालने के साथ भविष्य की दिशा को बदलने में सहायता करती हैं. जिस तरह से सही दिशा में किया गया काम सफलता और तरक्की की ओर ले जाता है, उसी प्रकार वास्तु के अनुसार सही दिशा में बना घर सुख-समृद्धि प्रदान करता है.

कई बार ऐसा होता है कि घर का निर्माण करते वक्त मुख्यद्वार के अलावा अन्य कमरों और किचन से संबंधित महत्वपूर्ण चीजों पर ध्यान नहीं दिया जाता. ऐसे में वास्तु के विपरीत यानी गलत दिशा या स्थान पर बनी चीजें परेशानी का कारण बन जाती हैं.

वास्तु के अनुसार उत्तरमुखी मकान को अच्छा माना जाता है. घर की उत्तर दिशा के वास्तु दोष मुक्त होने पर धन वैभव की वृद्धि होती है. आइए जानते हैं घर से जुड़े खास वास्तु टिप्स.

> घर की उत्तर दिशा में गेस्ट रूम बनाना शुभ होता है.
> घर के आग्‍नेय कोण यानी दक्षिण पूर्व दिशा में किचन होना चाहिए.
> घर के ईशान कोण (पूर्व-उत्तर दिशा) में पूजा स्थल बनाएं.
> घर की उत्तर दिशा में टॉयलेट, बाथरूम न बनाएं.
> घर में सुख शांति के लिए उत्तर दिशा में किचन न बनवाएं.
> घर की शांति के लिए उत्तर दिशा घर के मध्य भाग से नीचा होना चाहिए.
> घर के सदस्यों में प्यार बना रहे इसलिए उत्तर दिशा में कोई भी दीवार टूटी हुई या किसी भी दीवार में दरार नहीं होनी चाहिए.
> भूमिगत वाटर टैंक उत्तर-पूर्व में बनाएं, इससे भवन में रहने वालों को धन संचय करने में मदद मिलती है.
> उत्तर दिशा की ओर ओपन टेरेस रखने से सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है.
> यदि आपके घर में नौकर है तो उसका कमरा उत्तर-पश्चिम दिशा में होना चाहिए.

Leave a Comment